!! ॐ !!


Wednesday, May 26, 2010

!! तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी !!



       !! जय जय श्री किशोरी राधे !!

तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी......
तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी......


राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.......
राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.......
तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी....


सनकादिक तेरो यश गावे, ब्रह्मा विष्णु तेरी आरती उतारे....
ओ देखो इन्द्र लगावे बुहारी, ओ राधा रानी हमारी....


सर्वेश्वरी जगत कल्याणी, ब्रज की मालिक राधारानी....
यहाँ कोई न रहता भिखारी, ओ राधारानी हमारी.....


तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी....
राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.....


एक बार जो बोले राधा, कट जाये जीवन की बाधा....
ओ कृपा करो महारानी, ओ राधा रानी हमारी......


तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी....
राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.......


राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.......
राधा रानी हमारी, ओ राधा रानी हमारी.....
तीनो लोकों से न्यारी, ओ राधा रानी हमारी....


   !! जय जय श्री किशोरी राधे !!

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में