!! ॐ !!


Thursday, May 27, 2010

श्रीधाम वृंदावन के श्री राधारमण देव जी का प्राकट्य दिवस

आज हम सभी के प्रिय श्रीधाम वृंदावन के श्री राधारमण देव जी का प्राकट्य दिवस हैं....इस पावन दिवस की उपलक्ष्य में आइये हम सभी मिल श्री राधारमण जी के श्री चरणों में अपने प्रेम और श्रद्धा रूपी फुल अर्पित करते हुए, उनको अपने हृदय से शुक्रिया अदा करते हैं, कि उन्होंने अपने श्री चरणों का अनुराग हमे प्रदान किया....और हम निःशक्त जनों पर अपनी परम कृपा बनाये रखी...


मुझे तुमने दाता बहुत कुछ दिया हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

मुझे है सहारा तेरी बंदगी का....
हैं जिसपर गुजारा मेरी ज़िन्दगी का...
मिला मुझको जो कुछ तुम्ही से मिला हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

मुझे तुमने दाता बहुत कुछ दिया हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

न मिलती अगर, दी हुई दाद तेरी....
तो क्या थी जमाने में, औकात मेरी...
तुम्ही ने तो जीने के काबिल किया हैं...
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

किया कुछ न मैंने, शर्मसार हूँ मैं...
तेरी रहमतो का, तलबदार हूँ मैं...
दिया कुछ नहीं बस, लिया ही लिया हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

मिला मुझको जो कुछ, बदौलत तुम्हारी...
मेरा कुछ नहीं, सब है दौलत तुम्हारी....
उसे क्या कमी, जो तेरा हो लिया हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

मेरा ही नहीं, तू सभी का हैं दाता...
तू ही सबको देता, तू ही हैं दिलाता...
तेरा ही दिया, मैंने खाया पिया हैं...
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

मुझे तुमने दाता बहुत कुछ दिया हैं....
तेरा शुक्रिया हैं.....तेरा शुक्रिया.....

हे राधा रमण मैं हूँ, तुम्हरी शरण...
हे राधा रमण मैं हूँ , तुम्हरी शरण...

तुम्हरी शरण, प्रभु तुम्हरी शरण...
हे राधा रमण मैं हूँ, तुम्हरी शरण...

!! जय जय श्री राधारमण देव जी !!

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में