!! ॐ !!


Thursday, September 9, 2010

!! श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे... !!



















हे! मेरे श्यामसुंदर, तेरी ही एकमात्र कृपा का अभिलाषी, तेरा यह दीवाना तुझसे केवल यही अरदास करता है कि...


श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...
हूँ दीवाना तेरा, ओ हूँ दीवाना तेरा...
इस दीवाने से अँखिया मिला ले...
श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...


बिन तुम्हारी मेहर, ओ कन्हैया...
कैसी संवारेगी ये, ओ कैसी संवारेगी ये...
जिंदगानी मेरी समझा दे...
श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...


किसी चीज़ की न, मुझको तमन्ना...
मैं भिखारी तेरे, ओ मैं भिखारी तेरे...
दर्शनों का, तू दरस दिखा दे...
श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...


मेरे दिल को लगन बस तुम्हारी...
चाहे कुछ न मिले, ओ चाहे कुछ न मिले...
तेरी प्रेमगंगा में, डुबकी लगा दे...
श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...


श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...
हूँ दीवाना तेरा, ओ हूँ दीवाना तेरा...
इस दीवाने से अँखिया मिला ले...
श्यामसुन्दर ऐसी कृपा बरसा दे...


















 




                !! जय जय श्री श्यामसुन्दर जी !!

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में