!! ॐ !!


Sunday, October 10, 2010

!! सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये... !!




मर्यादा पुरषोतम श्री रामचंद्र एवं श्री भगवती सीता के श्री चरणों में बारम्बार प्रणाम हैं...


सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...
सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...


सबरी ने कहाँ पर वेद पढ़े, अहिल्या कब यज्ञ रचाई थी...
जिसके मन छल और द्वेष नहीं, भगवान उसी का हो जाये...
सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...


रावण ने राम से बैर किया, अब तक पापी कहलाता हैं...
बन भक्त विभीषण शरण गया, घर बार उसी का हो जाये...
सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...


प्रहलाद तो छोटा बालक था, पर प्रेम किया परमेश्वर से...
जीना उसका सार्थक है जो, एक बार प्रभु का हो जाये...
सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...


दुनिया के दीवानों शिक्षा लो, उस प्रेम दीवानी मीरा से...
जो प्रेम करे सिया रघुवर से, बेड़ा पार उसी का हो जाये...
सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...


सिया राम तुम्हारे चरणों में, यदि प्यार किसी का हो जाये...
दो-चार ही की तो बात ही क्या, संसार उसी का हो जाये...



             !! जय जय श्री सीता राम जी !! 
               !! जय जय श्री हनुमान जी !!

3 comments:

  1. रघुपति राघव राजा राम, पतित पावन सीता राम...
    सीताराम सीताराम, भज प्यारे तू सीता राम...


    श्री राम कृष्ण है तेरे नाम, सबको सन्मति दे भगवान...
    दीन दयालु राजा राम, पतित पावन सीता राम...


    जय रघुनंदन जय सियाराम, जानकी-वल्लभ सीताराम...
    जय यदुनंदन जय राधेश्याम, राधावल्लभ राधेश्याम...


    जय मधुसुदन जय गोपाल, जय मुरलीधर जय नंदलाल...
    कौशल्या के प्यारे राम, यशुमति सुत जय घनश्याम...


    जय दामोदर कृष्ण मुरारे, देवकीनंदन सर्वाधार...
    दशरथनंदन अवध किशोर, देवकी सुत जय माखन चोर...


    जय गोविन्द जय गोपाल, केशव माघव दीन दयाल...
    वृंदावन मथुरा में श्याम, अवधपुरी में सीता राम...


    रघुपति राघव राजा राम, पतित पावन सीता राम...
    सीताराम सीताराम, भज प्यारे तू सीता राम....


    !! जय जय श्री सीता राम जी !!
    !! जय जय श्री हनुमान जी !!

    ReplyDelete
  2. Sunder bhakti purn rachna......P.adhkar man ram may ho gaya..Abhar

    ReplyDelete
  3. सुंदर भजन पढ़कर मन को शांति मिली...आभार।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में