!! ॐ !!


Saturday, July 16, 2011

!! काबिल बनाओगे ये मानता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ... !!



वास्तव में मनुष्य गलतियों का पुतला होता है, हम मनुष्यों से जीवन में जाने अनजाने कई अपराध हो जाते है, और हमें इस बात पर विचार करना चाहिये कि अपना अपराध स्वीकार करना ह्रदय की दुर्बलता न होकर ह्रदय का आत्मबल होता है... जाने अनजाने में किये गए सभी अपराध बोध को स्वीकार कर हम अपने आराध्य, अपने प्रभु से सच्चे ह्रदय से क्षमा याचना करे तो प्रम सत्य धर्म का पालन होता है, मन का एक बोझ उतर जाता और मन को शांति मिलती है... एवं शांति प्राप्त होने पर मन स्थिर रहता है, और मन के स्थिर रहने से चरित्र निर्मल बनता है...

अतः स्वयं का दोष स्वीकार करना महत्त्व का लक्षण है, सभ्यता का प्रतिक है... दोष स्वीकार कर लेने से मनुष्य बोझ एवं अशांति रूपी महासागर से डूबने से बच जाता है.. आइये हम सब भी अपने आराध्य से करवद्ध हो अपने जाने अनजाने में किये गए अपराधों के लिये क्षमा याचना करे...



हे! प्रिय श्यामसुन्दर, हे मनमोहन...



सुनो श्यामसुन्दर! क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...
सुनो श्यामसुन्दर! क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...



गलती के पुतले इंसान है हम, भले है बुरे है तेरी संतान है हम...
गलती के पुतले इंसान है हम, भले है बुरे है तेरी संतान है हम...
दया के हो सागर, मैं जानता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...
सुनो श्यामसुन्दर क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...



कश्ती को मेरी, साहिल नहीं है, तुम्हारे चरण के हम काबिल नहीं है...
कश्ती को मेरी, साहिल नहीं है, तुम्हारे चरण के हम काबिल नहीं है...
काबिल बनाओगे ये मानता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...
सुनो श्यामसुन्दर क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...



'सूरज' की गलती को दिल पे न लेना, सजा जो भी चाहो श्याम हमें तुम देना...
भक्तो की गलती को दिल पे न लेना, सजा जो भी चाहो श्याम हमें तुम देना...
करुणानिधि हो तुम पहचानता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...
सुनो श्यामसुन्दर क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...



सुनो श्यामसुन्दर क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...
सुनो श्यामसुन्दर क्षमा मांगता हूँ, हुई जो खतायें, उन्हें मानता हूँ...



आप सभी इस सुन्दर भाव को नीचे दिए गए लिंक पर क्लीक कर सुन भी सकते है..



!! जय जय श्री श्यामसुन्दर जी की !!
!! जय जय श्री श्यामसुन्दर जी की !!
!! जय जय श्री श्यामसुन्दर जी की !!



भजन :"श्री सूरज कुमार जी"


No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में