!! ॐ !!


Saturday, June 5, 2010

!! श्री श्री धाम वृंदावन के श्री राधा मदन गोपाल जी !! Shri Radha Madan Gopal Ji of Shri Dham Vrindavan

श्री धाम वृंदावन के अद्वैत वाट में विराजित श्री राधा मदनगोपाल जी का श्री विग्रह

Mukesh K Agrawal's Photos - Wall Photos


श्री धाम वृंदावन के अद्वैत वाट में विराजित श्री राधा मदनगोपाल जी का श्री विग्रह

Added May 2
Mukesh K Agrawal
Mukesh K Agrawal
!! जय जय श्री राधा मदनगोपाल जी !!
May 2 at 2:49pm · Flag
Shashikant Gupta
Shashikant Gupta
मेरे भगवन भक्त के सारे, कष्ट मिटाते है....
गोपाल जी दौड़े आते हैं, गोपाल जी दौड़े आते हैं....
May 2 at 10:20pm · Flag
Himanshu Dev Banga
Himanshu Dev Banga
पने भगत की आँख में आँसू, देख न पाते हैं...
गोपाल जी दौड़े आते हैं, गोपाल जी दौड़े आते हैं...

Dear Lord Krishna, exhibits compassion toward all living entities.

!! जय जय श्री राधा मदनगोपाल जी !!
May 3 at 11:35am · Flag
Deepak Jalan
Deepak Jalan
JAI JAI RANI SATI DADI JI KA AGAR DHAM....
May 3 at 1:45pm · Flag

=================================

अद्वैत वट  

श्री कृष्णा के पोत्र महराजा वृजनाभा ने, श्री धाम वृंदावन में श्री मदन मोहन जी ( जो की आज कल राजस्थान के  करौली नगर में सेवित हो रहे हैं) की स्थपाना आज से 5000 वर्ष पूर्व की थी.....कालांतर में वो श्री विग्रह कही खो गयी... 

कुछ  वर्षो के पश्चात श्री अद्वैत्य आचर्य ने मदन मोहन जी के श्री विग्रह को गोकुल ( महावन) से खोज निकाला और उस श्री विग्रह की यहाँ वृंदावन में लाकर इस वट वृक्ष के नीचे स्थापित करने पूजा करने लगे.... और कुछ वर्षो पश्चात जब अद्वैत्य आचार्य नवद्वीप धाम  की  ओर प्रस्थान करने लगे तो मदन मोहन जी का श्री विग्रह उन्होंने मथुरा के एक चौबे ब्राहमन को दे दिया, और  कुछ समय पश्चात श्री मदन मोहन जी के श्री विग्रह को, श्री चैतन्य महाप्रभु के अनुयायी श्री सनातन गोस्वामी के द्वारा पुनः वृंदावन में स्थापित किया  गया ....

 

उन्ही अद्वैत्य आचार्य की स्मृति और इस स्थान पर श्री मदन मोहन जी का  के श्री विग्रह के पूजित होने से इस स्थान का नाम अद्वैत वट पड़ा ......अब यहाँ पर श्री मदन गोपाल जी की बहुत ही सुन्दर और मनोहारी श्री विग्रह की पूजा होती हैं....

!! जय जय श्री राधा मदनगोपाल जी !!

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में